Skip to main content

सब देश के लिए ही तो है - २

याद होगा आपको हमारा प्यारा मुस्सद्दीलाल
चक्कर काट-काट कर जो रहता था अक्सर बेहाल?
अब उसका बेटा मुस्सद्दीलाल जूनियर
हुआ है "अडल्ट" जो अब तक था मैनर

ले ली है अब इसने अपने हाथों में सारी भाग-दौड़
बनवाना है इसे अपना लैसंस, वीज़ा और पासपोर्ट
जी हाँ भैया अब यह जायेंगे परदेश
परंतु निश्चय है, कर के पढ़ाई लौटेंगे अपने ही देश!

पासपोर्ट ऑफिस के बाहर मिले भाटिया एजंट
"३००० साहब, पासपोर्ट चाहिए ना अर्जंट?"
"क्यों दू मैं आपको ३०००?
जब की ओफ़िशिअल रेट है १०००?"
"कहाँ साहब यूँ ही चक्कर लगाएँगे?
पिताजी के तो घिस गए, आप भी जुते घिसवायेंगे?"

बिना इस बात को बढाए, M2 चला गया भीतर
ना लाच, ना चोरी, ना कोई ग़लत काम इतर
लाईन में खड़े रहें, १००० चुक्ते किये
१५ दिन बाद पुलिस ने घर पर दस्तक दिए

बाहर निकलते ही पटेल इंस्पेक्टर ने पूछा,
"भाई साहब कुछ देंगे?"
"नहीं!" शांति से बोला M2
"काग़ज़ात दिखा कर रवाना करेंगे!"

जब गए यह लिसंस ऑफिस,
निकलवाया इसी ईमानदारी से काम
मुश्किल नहीं था, बस पुचा नहीं सामने से
"शुक्लाजी, क्या है आपका दाम?"

भले लगे यह आपको सपनो की नगरी,
यह सब है बिलकुल सच कहती है कवयित्री
देखा है मैंने इस सपने को होते हुए साकार
रिश्वत से अब डरती है खुद सरकार!

Comments

  1. this is in keeping with "sab desh ke liye hi toh hai" that i wrote way back in 2007! perception has changed since then. please read n leave yr remarks. n excuse the spelling/typing errors as this is the first time i have typed something in devnaagri script.

    ReplyDelete
  2. brilliant!!!

    i love the flow of the poem... i wonder how u managed to get these thoughts in your head?!?!?!?!

    ReplyDelete
  3. ya?? savio u really think so? m so happy!! thank u thank u thank u :)

    ReplyDelete
  4. wat a way 2 express ur feelings.mussadilal se acha symbolism kuch nahi ho sakta tha is thought le liye.well done niru.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

The 20 lakh package

In the corner of a room Clustered only with a
rusty stove And an old bed, A tattered book he read to his sister Trying to put her to bed.
The day had been long He had to cook with Baba And clean and dust, The woman of the house Had lads she could trust
At night Baba watched over the neighborhood And him, over their humble abode For his earnest parents This was his gentle ode
Finally came home Mommy Who was playing nanny To another little angel Whose parents took turns too Earning their hefty packages

L’Amour Courtois: Really a phenomenon of just the Middle Ages?

After the “epopee” or epic that greatly valorizes the honor of a chevalier who dies in the battle field, literature took on a new dimension, with love playing an essential role. The chevalier was now more eager to prove his worth to his mistress than to his land. It was not just important to love but win his love over the others.
Almost ten centuries later, the concept of love, for men, does not seem to have changed much. This is especially true for Indian men (am not commenting on others as I hardly know any). L’amour courtois rejects all kinds of indiscretion and also any hasty confession of love, everything has to be done as per a “code of conduct”: friendship --> courtship (the most important and probably also the longest lasting stage) --> love.
Is it related to the masculinity of men and their perpetual need to prove it to themselves and to others? Even in today’s age, men prefer a woman who plays the role of the Dame courtoise, or of the Indian “devi” in the Indian context…

कविता

कविता लिखना किसी इंसान के बस की बात नहीं है
कविता ख़ुद ही अपने आप को लिखती है
इक ज़रिया है बस हम तो
कविता ख़ुद ही ख़ुद को आईना में दिखती है

यह ख़ुद अपनी ज़ुबां चुनती है
लफ्ज़ अपने ख़ुद ही ढूँढ़ती है
कोशिश कर लेना तुम कभी
झूठ लिखते ही ये टूटती है

देर रात यह सपने में आती
मन के दरवाज़े पर दस्तक देती
लिफ़ाफ़े में बंद चिट्ठी में
अपने आप को तुम्हें दे जाती
लिखावट काग़ज़ पर तुम्हारी है बेशक़
पर कलम में सियाही तो वो ही भर जाती

कभी यूँ ही शाम को मिलने आती
खिड़की के पास बैठ चाय की चुस्कियाँ लगाती
रोम रोम में इक महक सी भर जाती है
दिल की धड़कनें कानों तक गूँज जाती है
बाहर की खिड़की खोलते खोलते
यह रूह के दरवाज़े खोल जाती है

एक बार कविता हर किसी को छूने आती है
जब टुटा हो दिल प्यार में, तो यह कुछ ज़्यादा जी लुभाती है
जब हाथ बढ़ाए तुम्हारी ओर, झट से थाम लेना, साहीर
यह बार बार गले नहीं लगती है।