Skip to main content

The 20 lakh package

In the corner of a room
Clustered only with a
rusty stove
And an old bed,
A tattered book he read to his sister
Trying to put her to bed.

The day had been long
He had to cook with Baba
And clean and dust,
The woman of the house
Had lads she could trust

At night
Baba watched over the neighborhood
And him, over their humble abode
For his earnest parents
This was his gentle ode

Finally came home Mommy
Who was playing nanny
To another little angel
Whose parents took turns too
Earning their hefty packages

Comments

Popular posts from this blog

la littérature française

Une amie qui ne fait que des comptes M'a demandé de raconter des contes "Qu'est-ce que c'est que vous faites là? Tant d'années de la littérature, oh là là! Mais ça va! Tout ce qu'il faut faire C'est lire les romans et faire des commentaires Raconte-moi, disais-je, quelques anecdotes Qui vous font passer le temps et gagner des notes" Pour commencer, j'ai fait du Maupassant Pas de nouvelle, j'ai raconté un souvenir passant: C'était ma première "aventure" je me souviens Dieu Merci que ça me rarement revient! Dans un studio parisien, un homme se couche Avec une jeune femme sans "faire le verrou" Le propiétaire entre, quel outrage! Pourquoi aurait-il écrit un tel ouvrage? Le recit se termine avec l'homme qui jure "Toujours faire le verrou avant une telle aventure!" Puis je suis passée à Albert Camus Qui a laissé un demi monde tout ému Un Prix Nobel, chez lui, s'est bien arrangé Pour son roman envahissant &

अतित की ललक

आज कल किताबें बहुत मायूस रहती हैं उनकी तो अलमारी पर जमी धूल पर अब कोई उंगली से नाम भी नही लिखता . डाकघर के सामने बच्चों का ताँता लगा है अब पिताजी के साथ यहाँ चिट्ठियाँ नही ड़लती स्कूल की फील्ड ट्रिप पर आएँ हैं बच्चे भैया की शायद कोई गर्लफ़्रेंड है बटुआ खोला तो ढेर सारे क्रेडिट कार्ड मिले अब कहाँ कोई वहाँ प्रेयसी की तस्वीर छुपाता है ? सब्ज़ीवाला होम डिलीवरी के पॅकेट बना रहा है धुली , कटी , फ्रेश , प्री - पैड सब्ज़ियाँ   भींडी के छोर तोड़ कर देखनेवाली वह भाभीजी कई दिनों से नज़र नहीं आई पड़ोस के दुबेजी के यहाँ नया टीवी आया है शायद फ़ेसबुक पर अपडेट देखा आज सुबह बढ़ती हुई ' लाइक्स ' मानो हमें ठेंगा दिखा रहीं हैं आज लिखते वक़्त कुछ मज़ा नहीं आया लिखावट पहले जैसी सुंदर नही रही अब कहाँ वो रात - रात भर डायरी के पन्ने भरते हैं ? कहाँ अब वो अंगूठे से किताबों के पन्ने पलटना ? कहाँ अब वो अंगूठे से चिट्ठियों